तुम देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा – Tum Dekho Logo Bhul Bhuleya ka tamasha

169

तुम देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा

Tum Dekho logo bhoole bhooleya ka tamasha Lyrics


 तुम देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा

तुम देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा


अरे नो दस मास गरब के अंदर करता नरक निवासा

अरे बाहर आकर भूल गया तुम चाहे भोग विलास रे भैया

देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा..


अरे खाट्टा रे मीठा भोजन चहिए वस्तर चहिए खासा

अरे जम के दूत पकड़ ले जावे ने डाल गले में फांसा रे भैया

देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा..


अरे बहना रोवे वार तेवारा ने माड़ी रोवे दस मासा

अरे तेरा दिन तक तिरीया रोवे ने फैर करे घर वासा रे भैया

देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा


अरे डेली तक तिरिया का नाता ने पलिया तक तेरी माता

अरे मरघट तक सब मित्र संगाती ने हंस अकेला जाता रे भैया,,


अरे हाड़ जले जैसे लकड़ी ने  केश जले जैसे घांसा

अरे सोना सर की काया जलत है कोई ना आवे थारे पासा रे भैया,,

देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा


हरे लक चैरासी में भटकत भटकत मीटी नमन की या त्रासा

अरे कहे कबीर सुनो भई साधो या दुनिया की रासा रे भैया,,

देखो लोगो भूल भुलैया का तमाशा

***************


Tum Dekho Logo Bhoole Bhooleya ka tamasha

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here