दिवाने जाग जा रे – Deewane Jaag Ja Re Thago Ki Nagariya

1186
deewane jaag ja re

Deewane Jaag Ja Re

 

दिवाने जाग जा रे

 दिवाने जाग जा रे,  ठगो की नगरिया

ठगो की नगरिया रामा ये है चैरो की नगरिया

दिवाने जाग जा रे…

 

चेतन होई लेणा रे काया में फेरी लेणा रे

सुमरण सुन में करना रे प्याला भर भर पीना रे

अरे रेल जो थारा दिनणा गावे बीतें उमरिया रे

दिवाने जाग जा रे,  ठगो की नगरिया….

 

चेतन होजा पंछी रे काया थारी काची रे

माया अजब अजाही रे भक्ति राम की साॅंची रे

अरे जम के द्वारे जाणो पड़ेगो आयो नम्बरिया रे

दिवाने जाग जा रे,  ठगो की नगरिया…

 

इस जग में कोई नही साथी रे काया झुठी कुमला की रे

मन थारो बेन्डो हाथी रे कोई की माने ना बाती रे

अरे साधु संत थारे हेला पाड़े लम्बी डुंगरिया रे

दिवाने जाग जा रे,  ठगो की नगरिया…

 

कुटुम थारा खुब खपेगा रे काम थने कई नी आवे रे

कुटुम भारो ठग ठग खावे रे काया बल चल जावे रे

अरे होई होशियार तु चेतन रेणा सुन शंकरिया रे

दिवाने जाग जा रे,  ठगो की नगरिया…

********************

Diwane jaag Ja re thago ki nagariya

 

Deewane Jaag Ja re PDF DOWNLOAD 

 


krishna bhajan

Kabir Bhajan

Mata Bhajan

Meera Bhajan

Gorakshnath bhajan

Aarti

Ramdevji Bhajan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here