भजन करले बीतीं जाये घड़ी….. – Bhajan Karle Beeti Jaye Ghadi

1
42

भजन करले बीती जाये घड़ी हो भजन करले बीती जाये घड़ी ।

अरे तेरी नय्या भॅंवर में पड़ी, भजन करले बीती जाये घड़ी…

गर्भवास में भक्ति कबुली, रक्षा आन करी..
भजन तुम्हारों करूंगा में साहब, पक्का काॅल करी ।।
भजन करले बीती जाये घड़ी…

वहाॅं से रे आया हवा जब लागी, माया अमल करी ।
दुध पीये रे मुस्काये गोद में, खिलकीय कठीन करी ।।
भजन करले बीती जाये घड़ी…

खावत पिवत ओड़े गलियन में, गुरू चर चावर मिश्री ।
ज्वान भयो तरूणी संग लागो, अब कहो कैसी करी ।।
भजन करले बीती जाये घड़ी…

वृद्ध भये तन काॅंपण लागे, कंचन जात भई ।
कहे कबीर सुनो भई साधु, गिरथा जनम गई ।।

भजन करले बीती जाये घड़ी हो भजन करले बीती जाये घड़ी ।
अरे तेरी नय्या भॅंवर में पड़ी, भजन करले बीती जाये घड़ी…
भजन करले बीती जाये घड़ी…
………….

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here