Mhara Sasra Ne dijo re Sandesh म्हारा सुसरा ने किजो रे संदेश

237
Mhara Sasra Ne Kijo re
Mhara Sasra Ne Kijo re

Mhara Sasra Ne Dijo re sandesh

म्हारा सुसरा ने किजो रे संदेश

 

 म्हारा सुसरा ने किजो रे संदेश नहरवा मे आग लगी

हां आग लगी हो ऐसी आग लगी, कोई दिजो साहब ने संदेश

नहरवा में आग  लगी…

 

हां आग लगी रे म्हारो घर सारो जल गयो जल गयी वस्तु अनेक

हां जनम जनम थारी गृस्ती जल गयी, अरे जल गयी करम वाली रेग

नहरवा में आग  लगी…

 

हां पाॅंचो तीन और पच्चीस भी जल गया मन में नही हे अंदेश

हां भाई बंधु और कुटुम्ब भी जल गया, या तो जल गयी दुविधा अनेक

नहरवा में आग  लगी…

 

हां तीनों पल म्हारा धोके में बीती गया कियो न गुरूजी से हेत

हां कबीर सुनो साधु हो मे तो चाली साहब जी का देश

नहरवा में आग  लगी

हां आग लगी हो ऐसी आग लगी, कोई दिजो साहब ने संदेश

नहरवा में आग  लगी

********************

Mhara Sasra Ne Dijo re sandesh

 

Mhara sasra ne Kijo re sandesh download PDF

 

#kabirbhajan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here