Ambe Tu Hai Jagdambey Kali अम्बे तू है जगदम्बे काली

197
jai ambe gauri
jai ambe gauri

Ambe Tu Hai Jagdambey Lyrics

अम्बे तू है जगदम्बे काली

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

 

तेरे भक्तजनों पर माता, भीड़ पड़ी है भारी, भीड़ पड़ी है भारी

दानव दल पर टूट पड़ो, माँ करके सिंह सवारी, करके सिंह सवारी

सौ-सौ सिहों से भी बलशाली, हे दस भुजाओं वाली

दुखियों के दुखड़े निवारती ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

 

माँ-बेटे का है इस जग मे, बड़ा हीनिर्मल नाता, बड़ा हीनिर्मल नाता

पूत-कपूत सुने है, पर ना माता सुनी कुमाता, माता सुनी कुमाता

सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली

दुखियों के दुखडे निवारती ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

 

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना, न चांदी न सोना

हम तो मांगें माँ तेरे चरणों में, छोटा सा कोना, इक छोटा सा कोना

सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,

सतियों के सत को सवांरती ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

ओ अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली

तेरे ही गुण गावें भारती

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

**************************

Ambey Tu Hai Jagdambey Kali Lyrics

Ambe Tu Hai Jagdambey Kali Aarti PDF 

 


krishna bhajan

Kabir Bhajan

Mata Bhajan

Meera Bhajan

Gorakshnath bhajan

Aarti

Ramdevji Bhajan

Maa Durga Aarti lyrics jai ambe tu hai jagdambey kali bhajan lyrics in hindi with PDF file free Download.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here