थारा भरया समंद मांई हीरा- Thara bhariya samand mai heera

978
Mhara Sasra Ne Kijo re
Mhara Sasra Ne Kijo re

 Thara bhariya samand mai heera

थारा भरया समंद मांई हीरा

 थारा भरया समंद मांई हीरा, मरजीवाला लाविया

घट मांही ज्ञान का जंजीरा, साहिब सुलझाविया

 

यो मन लोभी लालची रे यो मन कालू कीर

भरम की जाल चलावे रे हां

थारा भरया समंद मांई हीरा…

 

बागा जो बागा कोयल बोले रे बन माही बोल्या रे रूड़ा मोर

सावन वाली लहरां भी आवे रे हां

थारा भरया समंद मांई हीरा

 

घास फूस सब जली गया रे रही गयी सावन वाली तीज

कोई तो दिन उलट आवे रे हां

थारा भरया समंद मांई हीरा

 

गोला छूटिया है गुरु ज्ञान का रे कायर भाग्यो रे भाग्यो जाए

सूरमा सनमुख रहना रे हां

थारा भरया समंद मांई हीरा

 

गुरु रामानंद की फौज में रे सनमुख लड़े रे कबीर

शबद का बाण चलाया रे हां

थारा भरया समंद मांई हीरा

***********************

Thara bhariya samand mai heera

bhariya samand mai heera PDF file

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here