Baniyo Baniyari Bhajan | Baba Ramdevji बाणीयो बणियारी

1411
ramdevji bhajan lyrics
ramdevji bhajan lyrics

Baniyo Baniyari Bhajan 

 

बाणीयो बणियारी धणी रा देवरे रे जाई

 

 

 है धरव दिशा से धणी उलटी मेवाड़

बाणीयो बणियारी धणी रा देवरे रे जाई जियो रे जी 

 

है धन रे माल रा का भर लिया उंट

 बाणीयो बणीयारी धणी रा देवरे रे जाई जियो रे जी

 

 है छोटी रे मोटी गामडी में रई गया रात

 वणी रे गामडी रा हैरू लागा चोर जियो रे जी

 

है उंडी रे उंडी झाड़ियां में बोले ढाडर मोर

वंणी रे झाड़ियां रो बखंड उजाड़ जियो रे जी 

 

हरे उंची रे नीची घाटिया में चली गई तलवार 

मारी दियो बाणीया ने लूटी लियो माल जियो रे जी

 

हरे उबी उबी बणीयारी वा रोवे नवसो धार 

एक एक आंसुडा रा करे नव नव टुक  जियो रे जी

 

है अच्छी नी करी रे म्हारा द्वारका रा नाथ

आई रे पुतर ना कारण खोयो भरतार जियो रे जी

 

अरे हेलो म्हारो सुनो माता मेणा देरा लाल

भाई रे बिरमदेव  राणी नैतल रा भरतार जियो रे जी

 

है डाबी रे डाबी भुजे धणीरा पड़ी झणकार

उंडी उंडी झाड़ियां में बाणियो मार्यो जाई जियो रे जी

 

है रुणीजा से घोड़ा छुट्या फटकार्या  जाई 

केसरिया झामा री वो धणी री झंडी उड़ती जाई

 जियो रे जी़

 

 

 

है उबरे रे चोइड़ा तू भाग्यो कहां जाय

बाणिया रो माल तू तो कितरा दन खाए जियो रे जी

 

हे चाल्यो जा रे रांगडा तू चाल्यो जा राजपुत

 ऐसी रे दुंगा थापडा नी घोड़ो लुंगा लूट जियो रे जी

 

है टुटी म्हारी कामठी ने टूटो म्हारो तीर

पेला मारूं घोड़लो ने पाछे रामोपीर जियो रे जी

 

हे आंखे करू आंदलो ने आंगे मैलू  कोड़

दुनिया में राखू थाने दर्शण वाते चोर जियो रे जी

 

हरे लेवो बणियारी थारो धन माल सम्भाल

तलक पछोड़ ने बेन्या करदे लंबी सोड जियो रे जी

 

हरे अगो बलों धन म्हारो अगो बालो माल 

बाणिया रो सिस म्हार से जोड़ायो नि जाई जियो रे जी

 

है मार्यो रे उंखारो धणी उठयो धन्नो सेठ

म्हने रे समाल्यो धणी परजा समाल जियो रे जी

 

है रुणीजा रा राजा म्हने रस्तो बतावो

 उंडी रे उंडी झाड़ियां में पाछा मार्या जांवा जियो रे जी

 

हरे उंची नीची घटिया ने सामे दिखे तलाव

वणा रे तलाव को यो रामो सागर नाम जियो रे जी

 

है आधा रे लाख नों धणी देवरो बंधाउ

आधा रे लाख नों धणी छतर चढ़ावा जीयो ये जी 

 

 है आधा रे लाख नों धणी जातरू जिमावां

आधा रे लाख नों धणी बावड़ी खणावां जियो रे जी

 

दोई कर जोड़े भाटी हरिनंद बोल्या 

शरणै आया री लाजा राखे रामोपीर जियो रे जी

*********************************

Baniyo Baniyari Bhajan Dhani ra devre re Jaye

 

Baniyo Baniyari pdf download

 

 


krishna bhajan

Kabir Bhajan

Mata Bhajan

Meera Bhajan

Gorakshnath bhajan

Aarti

Ramdevji Bhajan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here