Meera Mewadi Meera Rajwadi मीरा मेवाड़ी वो मीरा रजवाड़ी

663
meeabai bhajans
meeabai bhajans

Meera Mewadi

मीरा रजवाड़ी

गढ़ हो चित्तौड़ से मीराबाई उतरी वो मीरा मेवाड़ी वो मीरा रजवाड़ी 

लेली है रुणीजा री वाट सांचो म्हारो गिरधारी

 

जहर कटोरा राणा भेजीया रे राजा  रजवाड़ी रे राजा मेवाड़ी 

दी जो मीरा बाई रा हाथ झूठों थारो गिरधारी

 

ली हो चरणोंमत मीरा पी गई वो मीरा मेवाड़ी वो मीरा

रजवाड़ी राखण वालों रघुनाथ सांचो म्हरो गिरधारी ।।

 

सांप टिपारो राणा भेजियो रे राजा रजवाड़ी रे राजा मेवाड़ी

 दिजो मीरा बाई रा हाथ झूठे थारो गिरधारी

 

खोल टिपारो मीरा देखीयो वो मीरा मेवाड़ी वो मीरा रजवाड़ी

 निकल्यो है नवसरीयो हार  सांचै म्हारो गिरधारी

 

बिच्छु टिपारो राणा भेजियो रे राजा रजवाड़ी रे राजा मेवाड़ी

दिजो मीरा बाई रा हाथ  झूठे थारो गिरधारी

 

खोल टिपारो मीरा देखीयो वो मीरा मेवाड़ी वो मीरा रजवाड़ी 

निकल्या है सालागिराम सांचो म्हारो गिरधारी

 

 दोई कर जोड़े मीराबई बोलिया वो मीरा मेवाड़ी वो मीरा रजवाड़ी 

पाया है बैकुंठ वास सांचो म्हारो गिरधारी

****************

Meera Mewadi Meera Rajwadi

Meerabai Bhajan PDF

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here