Me Khada Dware pe pal pal karu me vinti teri मैं खड़ा द्वारे पे

1943
Dharti Gagan Me Hoti hai
Dharti Gagan Me Hoti hai

me khada dware pe pal pal

 

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी

 

 श्लोक – तेरे दरबार का पाने नजारा, मैं भी आया हू
जरा देदो माँ चरणों मे सहारा, मैं भी आया हूँ
सुना है दर पे तेरे इस जहाँ की, हर खुशी मिलती,
जगा दो सोई किस्मत का सितारा, मैं भी आया हूँ ।।

 

तू जो दया जरा सी करदे, सर पे हाथ मेरे माँ धर दे

हो जाये दुखड़े  दूर, कट जाये हर एक विपदा मेरी

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी

माँ मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी ।।

 

तेरी किरपा हो जाये, बिगड़े काम बने सब मैया

मैं रब को ना मानु, मेरे लिए तू ही रब मैया

तेरी ज्योत जगे दिन, दुनिया माने शक्ति तेरी

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी ।।

 

कहते है तेरे दिल में, नदिया ममता की है बहती

करे प्यार दुलार बड़ा, तू भक्तो के अंग संग रहती

तेरी दया का अंत नहीं, करदे दूर मुसीबत मेरी

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी ।।

 

मूरख अज्ञानी हूँ, मुझको ज्ञान नहीं है कोई

तेरी महिमा क्या जानूं, पूजा ध्यान नहीं है कोई

अगर खोल से अंखिया तू, फिर तो खुल जाए किस्मत मेरी

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी ।।

 

जग जननी ऐ माता, ज्योतो वाली शेरो वाली

तू चाहे तो पल में भर दे  में, भक्त की झोली खाली 

कहे फिर तू भवरों में, नैया फसी है नैया मेरी

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी ।।

 

तू जो दया जरा सी करदे, सर पे हाथ मेरे माँ धर दे

हो जाये दुखड़े दूर, कट जाये हर एक विपदा मेरी

मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी

माँ मैं खड़ा द्वारे पे पल पल, करू मैं विनती तेरी ।।

**********************************

me Khada  dware pe pal pal karu me vinti teri

Me Khada dware pe PDF download

 
 

Mata Bhajan hindi lyrics
mata bhajan lyrics hindi



krishna bhajan

Kabir Bhajan

Mata Bhajan

Meera Bhajan

Gorakshnath bhajan

Aarti

Ramdevji Bhajan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here