जेठ मास गर्मी को रे महीनों – Jeth Maas Garmi Ko Mahino Lyrics

290
jeth maas garmi ko mahino
jeth maas garmi ko mahino

Jeth Maas Garmi Ko Mahino Lyrics in hindi

जेठ मास गर्मी को रे महीनों

 

जेठ मास गर्मी को रे महीनों प्रेम प्यास लग जावे 

प्रेम प्यास लग जावे गुरुजी म्हने याद थमारी आवे

 

आषाढ़ महीना में आसा रे लागी

इंदर चढ़ कर आवे हां हां रे

हरे सतगुरू म्हारा समंद समाणा

सतगुरू म्हारा संमंद समाणा 

 हरे धरती थाप घर आवे 

 गुरूजी म्हाने याद।।

 

सावन में साहेब घर आवे

सखीया रे मंगल गावे हां हां रे

पांच सखी मिल मंगल गावे

पांच सखी मिल मंगल गावे 

पिया मगन हुई जावे 

गुरूजी म्हने याद।।

 

भादवो भक्ति को रे महीनो

गुरु बिना जीव दुख पावे

कहे कबीर सुणो भाई साधो

चरणों में शीश नमावे

 गुरूजी म्हने याद थमारी आवे ।।

***********************************************

Jeth Mas Garmi Ko Mahino

Jeth Maas Garmi Ko Mahino PDF Download

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here