chalti chakki dekh ke – चलती चक्की देख के

1339

chalti chakki dekh ke

चलती चक्की देख के

चलती चक्की देख के, दिया कबीरा रोये ।
दो पाटन के बीच में, साबुत बचा न कोए ॥

हिन्दी अनुवाद (अर्थ) –

कबीर दास जी कहते हैं, जब उन्होंने चलती हुई चक्की जिसके को देखा तो वह रोने लगे क्योंकि वह देखते हैं की किस प्रकार दो पत्थरों के पहियों के निरंतर आपसी टक्कर के बीच कोई भी गेहूं का दाना या दाल साबूत नहीं रह जाती, वह टूटकर या पिस कर आटे में बदल जाता है।


Kabir das ke dohe

Chalti chakki dekh ke


Kabir das ke dohe PDF

kabir lyrics PDF


chalti chakki dekh ke in english

Chalti chakki dekh ke, diya kabir roy

do patan ke bich me, sabut bacha na koi.

Meaning –

Kabir Das ji says, when he saw a moving mill, he started crying because he sees how between the continuous collision of two stone wheels, no grain of wheat or pulse remains whole, it breaks or breaks. It turns into flour after grinding.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here