Gurur brahma gurur vishnu lyrics – गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु

147
gurur brahma gurur vishnu image

Gurur brahma gurur vishnu lyrics

गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु

गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देवो महेश्वरा ।
गुरुः साक्षात्परब्रह्मा तस्मै श्री गुरुवे नमह।।
अर्थात गुरू ही सर्वमान्य है, गुरू ही श्री ब्रह्मा है, गुरू ही भगवान विष्णु का स्वरूप है तथ गुरू ही देवादिदेव महावदेव शिव का स्वरूप है, गुरू ही साक्षात परब्रह्म के स्वामी है वे स्वयं निराकार के स्वरूप है ऐसे गुरू को नमन है, एवं गुरू ही सर्वश्रेष्ठ है।


ज्ञान ना उपजे गुरु बिना बिन गुरु भक्ति ना होय।
मन का शंशय ना मिटे बिन गुरु मुक्ति ना होय।।
अर्थात गुरू बिना ज्ञान की वृद्धि नही होती है और ना ही गुरू के बिना किसी की भक्ति की जा सकती है, अपने मन में जो संदेह एवं शंशह है या डर है वो गुरू के बिना नही मिट सकता, और ना ही गुरू के बिना हमें मुक्ति प्राप्त हो सकती है इसलिये गुरू आवश्यक है।


समदर्शी गुरु एक है देता विद्या ज्ञान ।
छल कपट रखता नहीं, और नहीं अभिमान।।
अर्थात जो सब कुछ देख सकता है वो ही गुरू है और वह ही हमें विद्या का ज्ञान दे सकता है, उसके मन में कोई छल-कपट, द्वेष, ईर्ष्या की भावना व्याप्त नही है और गुरू में किसी प्रकार का घमण्ड नही होता है ।


कृपा गुरु की जब होवे नर नारायण जान ।
गुरु है ब्रह्मा गुरु है विष्णु गुरु को शिव तू मान ।।
अर्थात हम पर जब गुरू की कृपा होती है तब गुरू ही ईश्वर बन जाता है और तब ही गुरू ब्रह्मदेव और गुरू ही भगवान विष्णु और गुरू ही भगवान शिव का स्वरूप हो जाते है अर्थात गुरू सर्वश्रेष्ठ है।


Gurur brahma gurur vishnu lyrics in Hindi

gurur brahma gurur vishnu lyrics


Gurur brahma gurur vishnu PDF

kabir lyrics PDF


guru brahma guru vishnu sloka

Gurur Brahma Gurur Vishnu Gurur Devo Maheshvara
Guruh Saakshaatparabrahma Tasmai Shree Guruve Namah.
That is, Guru is omnipresent, Guru is Shri Brahma, Guru is the form of Lord Vishnu, and Guru is the form of Devadidev Mahavadev Shiva, Guru is the real lord of Parabrahman, he himself is the form of formless, salutations to such a Guru, and Guru. It’s the best.


Gyaan Na Upaje Guru Bina Bin Guru Bhakti Na Hoy
Man Ka Shanshay Na Mite Bin Guru Mukti Na Hoy.
That is, without a Guru, there is no growth of knowledge, nor can anyone be worshiped without a Guru, the doubts and doubts or fears we have in our mind cannot be eradicated without the Guru, nor can we get rid of them without the Guru. can be attained, therefore Guru is necessary.



Samadarshee Guru Ek Hai Deta Vidya Gyaan,
Chhal Kapat Rakhata Nahin, Aur Nahin Abhimaan.
That is, the one who can see everything is the Guru and he can give us the knowledge of knowledge, there is no deceit, hatred, jealousy in his mind and there is no pride in the Guru.



Krupa Guru Kee Jab Hove Nar Naaraayan Jaan
Guru Hai Brahma Guru Hai Vishnu Guru Ko Shiv Too Maan.
That is, when we are blessed by the Guru, then the Guru becomes God and only then the Guru Brahmadev and the Guru become the form of Lord Vishnu and the Guru becomes the form of Lord Shiva, that is, the Guru is the best.


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here