Nindak niyare rakhiye – निंदक नियरे राखिए

508
nindak niyare rakhiye image

Nindak niyare rakhiye

निंदक नियरे राखिए

निंदक नियरे राखिए, आंगन कुटी छवाय ।
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय ।।

हिन्दी अनुवाद (अर्थ) – 

संत कबीरदास जी कहते है कि जो हमारी निंदा करता है, हमारी कमिया गिनाता है, हमेशा हमारे बुरे कार्यो को याद दिलाता है उसे अपने अधिक से अधिक पास ही रखना चाहिए क्योंकि वह बिना साबुन और पानी के अर्थात बिना किसी लोभ लालच के हमारी कमियां बताकर हमारे स्वभाव को साफ कर देता है। जिससे हम अपनी बुराईयों एवं गलतियों को सुधार सकते है और उन्हे ठीक कर सकते है।


निंदा एक प्रकार की बुराई ही है, जो बिना किसी को शारीरिक घात लगाये उसे अपाहिज बना देती है यह दिखाई तो नहीं देती, किन्तु होती बडी भयानक है। जब भी कोई व्यक्ति, किसी की निंदा करता है तो वह निंदा कर रहे व्यक्ति के स्वभाव व उसके दुसरों के प्रति भावना के स्तर को दर्शाती है। निंदा करना, व्यक्ति को एक कदम स्वयं के विनाश की ओर ले जाता है। निंदा करने करने और सुनने वाले दोनों ही अपराध के बराबर हिस्सेदार होते हैं। क्योंकि जब व्यक्ति पूरा आनन्द लेकर सुनता है तभी निंदा करने वाले को उसे सुनाने में आनन्द आता है और वह भी पूरे आनन्द के साथ निंदा कर पाता है


Kabir das ke dohe

nindak niyare rakhiye


Kabir das ke dohe PDF

kabir lyrics PDF


Nindak niyare rakhiye english

Nindak niyare rakhiye, Angan kuti chhavay
Bin Paani, Sabun Bina, Nirmal Kare Suhay.

Sant Kabirdas ji says that the one who criticizes us, counts our shortcomings, always reminds us of our bad deeds, he should Condemnation is only a kind of evil, which makes someone crippled without a physical ambush, it is not visible, but it is very terrible. Whenever a person criticizes someone, it reflects the nature of the person condemning and his level of feeling towards others. Condemning takes one step towards self-destruction. Both the condemner and the hearer are equal partners in the crime. keep more and more near him because he can tell our short com in Because when a person listens with full joy, only then the slanderer takes pleasure in reciting it and he can also condemn with full joy.gs without soap and water i.e. without any greed. Clears our nature. By which we can rectify and correct our evils and mistakes.


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here