Jo ghat prem na sanchare | जो घट प्रेम न संचरे | Kabir

129
Jo ghat prem na sanchare Photo

Jo ghat prem na sanchare

जो घट प्रेम न संचरे

जो घट प्रेम न संचरे, जो घट जान सामान ।
जैसे खाल लुहार की, सांस लेत बिनु प्राण

अर्थ – जिस इंसान अंदर दूसरों के प्रति प्रेम की भावना नहीं है वो इंसान पशु के समान है। जिस मनुष्य के ह्मदय में प्रेम की भावना नहीं है, उसका ह्मदय श्मशान के सापेक्ष सूना है और वह स्वयं जीते जी मृतक समान है। जिस प्रकार लोहार की धोंकनी निर्जीव खाल होने पर भी साँस लेती है। वैसे ही प्रेम से हीन मनुष्य भी देखने में निस्सन्देह साँस लेता, चलता फिरता और काम काज करता दिखायी देता है; किन्तु सत्य में वह मृतक ही है।


Jo ghat prem na sanchare lyrics with meaning

Jo ghat prem na sanchare


Jo ghat prem na sanchare in english

Jo ghat prem na sanchare, Jo ghat jaan saman,
Jaise khaal lohar ki, sans let binu praan.

Kabir das says that a person who does not have a feeling of love for others, he is like an animal. The man who does not have the feeling of love in his heart, his heart is empty relative to the cremation ground and he himself is like a dead living. Just as a blacksmith’s bellows breathes even when there is a dead skin. In the same way, a man devoid of love is undoubtedly seen breathing, moving and doing work; But in reality he is dead.


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here