Pradeep Mishra Bhajan Lyrics | प्रदीपजी मिश्रा के भजन

539

Pradeep Mishra Bhajan Lyrics

Bhola Sab Dukh Kato Mhara Lyrics

भोला सब दुख काटो मारा

भोला सब दुख काटो मारा
शिव शंकर जपूं मैं तेरी माला
भोला सब दुख काटो मारा

विष है मंगल मंगलकरी
अवधूत रूप तुम्हारा
भोला सब दुख काटो मारा

ओ बोला सब दुख काटो मारा
शिव शंकर जपूं में तेरी माला
भोले बाबा जपूं मैं तेरी माला
शीश पर गंगा मस्तक पर चंदा
शमशान वासी हमारा
भोला सब दुख काटो मारा
ओ भोला सब दुख काटो मारा

***************************

पंडित प्रदीप जी मिश्रा – सीहोर, मध्य प्रदेश

Pradeep Mishra Bhajan Lyrics

Bhola Sab Dukh Kato Mhara Lyrics PDF DOWNLOAD

DOWNLOAD BHAJAN PDF


 

Suna Hai Hamne O Bhole Teri Kashi Me Mukti Hai Lyrics

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में मुक्ति है
उसी मुक्ति को पाने को मैं काशी नगरी आया हूं
मेरे भोले बम्म भोले में काशी नगरी आया हूं

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में गंगा है
उसी गंगा को पानी को मैं काशी नगरी आया हूं
मेरे भोले बम्म भोले में काशी नगरी आया हूं

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में भक्ती है
उसी भक्ति को पाने को मैं काशी नगरी आया हूं
मेरे भोले ओ बम्म भोले मैं तेरी काशी में आया हूं

************************************

पंडित प्रदीप जी मिश्रा – सीहोर, मध्य प्रदेश

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में मुक्ति है,

Suna Hai Hamne O Bhole Teri Kashi Lyrics PDF DOWNLOAD

DOWNLOAD BHAJAN PDF


 

Kashi Me Khuli Hai Dukan Gora Rani Kya Logi Lyrics

काशी में खुली है दुकान गौरा रानी क्या लोगी

काशी में खुली है दुकान गौरा रानी क्या लोगी
गौरा रानी क्या लोगी हो गौरा रानी क्या लोगी
पायल तो मैं पहन के आई
मुझे बिछुबा दिला दो भोलेनाथ
मैं तो बस यही लूंगी
काशी में खुली है दुकान गौरा रानी क्या लोगी
गौरा रानी क्या लोगी हो गौरा रानी क्या लोगी
लहंगा तो मैं पहन के आई
मुझे चुनर दिला दो भोलेनाथ
मैं तो बस यही लूंगी
काशी में खुली है दुकान गौरा रानी क्या लोगी
गौरा रानी क्या लोगी हो गौरा रानी क्या लोगी
हरवा तो मैं पहन के आई
मुझे नथनी दिला दो भोलेनाथ
मैं तो बस यही लूंगी
काशी में खुली है दुकान गौरा रानी क्या लोगी
गौरा रानी क्या लोगी हो गौरा रानी क्या लोगी
चूड़ा तो मैं पहन के आई
मुझे महंदी दिला दो भोलेनाथ
मैं तो बस यही लूंगी

************************************

पंडित प्रदीप जी मिश्रा – सीहोर, मध्य प्रदेश

 

Kashi-Me-Khuli-Hai-Dukan-Gora-Rani-Kya-Logi

Kashi Me Khuli Hai Dukan Gora Rani Kya Logi PDF DOWNLOAD

DOWNLOAD BHAJAN PDF


 

Dil Tujhko Diya O Bholenath Lyrics

दिल तुझको दिया ओ भोले नाथ

तूने ऐसा डमरू बजाया
तूने ऐसा डमरू बजाया
मेरा मन हर लिया ओ भोलेनाथ
दिल तुझको दिया ओ भोलेनाथ
दिल तुझको दिया ओ भोलेनाथ

तेरे चरणों में ध्यान लगाया
तेरे चरणों में ध्यान लगाया
मुझे अपना लिया ओ भोलेनाथ
मुझे अपना लिया ओ भोलेनाथ
दिल तुझको दिया ओ भोलेनाथ
अरे ओ भोलेनाथ मेरे भोलेनाथ
दिल तुझको दिया ओ भोलेनाथ

ये क्या कर दिया ओ भोलेनाथ
मैं तो बैठी थी गंगा किनारे
मै तो बैठी थी गंगा किनारे
आके दर्शन दिया ओ भोलेनाथ
दिल तुझको दिया ओ भोलेनाथ

************************************

पंडित प्रदीप जी मिश्रा – सीहोर, मध्य प्रदेश

Dil Tujhko Diya O Bholenath

Dil Tujhko Diya O Bholenath Lyrics PDF DOWNLOAD

DOWNLOAD BHAJAN PDF


 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here