Home Blog Page 3

Shirdi wale sai baba lyrics | शिरड़ी वाले साँई बाबा

0
Shirdi wale sai baba lyrics शिरड़ी वाले साँई बाबा ज़माने में कहाँ टूटी हुई तस्वीर बनती है तेरे दरबार में बिगड़ी हुई तक़दीर बनती है तारीफ़ तेरी...

Mere ghar ke aage sainath | मेरे घर के आगे साईनाथ

0
Mere ghar ke aage sainath Lyrics मेरे घर के आगे साईनाथ मेरे घर के आगे साईनाथ तेरा मन्दिर बन जाए जब खिड़की खोलूँ तो तेरा दर्शन हो...
maiya mori main nahin makhan khayo 01

maiya mori main nahin makhan khayo | मैया मोरी

0
maiya mori main nahin makhan khayo lyrics मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो मैं नहिं माखन खायो मैया मोरी, मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो।। भोर भयो गैयन...
Radhe albeli sarkar 01

Radhe albeli sarkar | राधे अलबेली सरकार

0
Radhe albeli sarkar lyrics राधे अलबेली सरकार करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार । राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली सरकार ॥ बार बार श्री राधे हमको, वृन्दावन में बुलाना ।...
yashomati maiya se

Yashomati maiya se bole nandlala lyrics | यशोमती मैया

0
Yashomati maiya se bole nandlala lyrics यशोमती मैया से बोले नंदलाल भजन यशोमती मैया से बोले नंदलाला राधा क्यों गोरी मैं क्यों काला ॥ बोली मुस्काती मैया, ललन...
Laxmi mantra image

Laxmi Mantra | लक्ष्मीजी के मंत्र

0
Laxmi Mantra लक्ष्मीजी के मंत्र लक्ष्मी मंत्र: महालक्ष्मी के इन मंत्रो को नित्य प्रातः काल जाप करने से मन की शांति तो होती है इसके साथ...
Vishnu Chalisa PDF image

Vishnu chalisa pdf – श्री विष्णु चालीसा

0
Vishnu chalisa pdf श्री विष्णु चालीसा ॥ दोहा॥ विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय । कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय । ॥ चौपाई ॥ नमो विष्णु भगवान खरारी...
Shiv chalisa

Shiv chalisa lyrics – शिवजी का चालीसा

0
Shiv chalisa lyrics शिवजी का चालीसा ॥ दोहा ॥ जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान । कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान ॥ ॥ चौपाई ॥ जय गिरिजा पति...
Ganesh Chalisa

Ganesh chalisa lyrics – श्री गणेश चालीसा

0
Ganesh chalisa lyrics श्री गणेश चालीसा जय गणपति सद्गुण सदन कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण जय जय गिरिजालाल॥ जय जय जय गणपति राजू। मंगल भरण करण...

Vakratunda mahakaya lyrics – वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि

0
Vakratunda mahakaya lyrics वक्रतुण्ड महाकाय वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ हिन्दी अनुवाद-वक्रतुण्ड- घुमावदार सूंडमहाकाय- महा काया, विशाल शरीरसूर्यकोटि- सूर्य के समानसमप्रभ- महान प्रतिभाशालीनिर्विघ्नं-...